बुधवार, 29 सितंबर 2010

कुछ यादें




यूं इल्जाम ना लगाओ मेरे दामन पर

कि हम गैरो की ज़ुल्फ़ों मे सोते है ।

सारी रात भीगा हूं अश्को की बारिश में

हम वो नही जो महफ़िल मे आके रोते है ॥


1 टिप्पणी:

  1. बहुत सही!!


    एक निवेदन:

    कृपया वर्ड-वेरिफिकेशन हटा लीजिये

    वर्ड वेरीफिकेशन हटाने के लिए:

    डैशबोर्ड>सेटिंग्स>कमेन्टस>Show word verification for comments?>
    इसमें ’नो’ का विकल्प चुन लें..बस हो गया..जितना सरल है इसे हटाना, उतना ही मुश्किल-इसे भरना!! यकीन मानिये.

    उत्तर देंहटाएं