शनिवार, 16 मार्च 2013

प्रेम-पत्र 8

लक,
                तुम्हारे साथ एक छोटी सी मुलाकात के साथ जिंदगी की नई शुरुआत की थी धीरे-धीरे मै तुम्हारे प्रेम में इतनी गहराई से गुंथ गया कि अब तुमसे जुदा होना मेरे लिए संभव नही है जो सपने तुम्हारे साथ देखे थे, जो पल तुम्हारे साथ बिताए थे, उनका स्मरण आते ही तन-मन पुलकित हो उठता है किंतु ह्रदय के किसी कोने में ये भय भी रहता है कि अगर इन सपनों को लेशमात्र भी चोट पहुंची, तो मेरा मन क्षोभ से भर जायेगा मैने कभी भी दिल से नही चाहा कि तुम्हारे मेरे बीच दूरियों को गति मिले परंतु परिस्तिथियों पर किसका वश है ?
                एक तरफ़ तुम श्वेत मोती सी पवित्र, और दूसरी तरफ़ मै निर्लज्जता का आवरण तुम्हारे इस परिवर्तित व्यवहार का कारण भी शायद मै ही हूं मुझे स्वयं की ही गलतियों का परिणाम भुगतना पड रहा है कभी तुम्हारी पलके मेरी बाट जोहती थकती नही थी , और आज तुम्हे मेरी तरफ़ देखने में भी भय महसूस होता है क्या यही मेरी नियति है ? क्या मै इस परिस्तिथि से उबर नही पाऊंगा ? क्या मुझे हमेशा के लिए तुम्हारी नाराज़गी का दंश झेलना पडेगा ?
               
                पलक, तुम्हारे, सिर्फ़ तुम्हारे लिए मैने स्वयं को बदलने की चेष्टा की मै बहुत स्वार्थी हूं मै स्वयं को छोडकर किसी और के बारें में विचार नही करता किंतु जब तुम्हारे बारे में सोचता हूं, तो तुम्हारी यादें चारों ओर के वातावरण में ऐसे ही मंडराने लगती है जैसे फ़ूलों पर भंवरें , तुम्हारी मादक गंध से वातावरण सुगंधित हो जाता है और तुम्हारी मनमोहक मुस्कान से वातावरण प्रफ़ुल्लित हो उठता है
               
                पलक, क्या तुम अपने प्रिय को छोडकर रह पाओगी ?अगर नही रह पाओगी तो क्यों मुझसे इतनी प्रतीक्षा करा रही हो ? क्यों ना इन क्षणों को हम आनंद के साथ जियें लौट आओ पलक, वापस लौट आओ
……प्रतीक्षारत 'नक्षत्र'

 [
palak,
   
    Tumhare saath ek choti si mulakaat ke saath jindagi ki nayi shuruaat ki thi. dheere dheere mai tumhare prem me itni gehrai se gunth gaya ki ab tumse juda hone mere liye sambhav nahi hai. Jo sapne tumhare saath dekhe they, jo pal tumhare saath bitaye they, unka smaran aate hi tan man pulkit ho uthta hai. kintu hraday ke kisi kone me ye bhay bhi rehta hai ki agar in sapno ko inch matra bhi chot pahunchi to mera man xobh se bhar jayega. maine kabhi dil se nahi chaha ki tumhare mere beech dooriyo ko gati mile.parantu paristithiyo par kiska vash hai.
   
    ek taraf tum safed moti si pavitra, ek taraf mai nirlajjata ka aavaran. tumhare is parivartit vyavahar ka karan bhi shayad mai hi hu.mujhe swayam ki hi galtiyo ka parinaam bhugatna pad raha hai. kabhi tumhari palke meri baat johti thakti nahi thi, aur aaj tumhe meri taraf dekhne me bhi bhay mehsoos hota hai. kya yahi meri niyati hai? kya mai is paristithi se ubar nahi paunga? kya mujhe hamesha hamesha ke liye tumhari narajagi ka dansh jhelna padega?

    palak, tumhare, sirf tumhare liye maine swayam ko badalne ke baare me sochne ki chesta ki. mai bahut swarthi hu. mai swayam ko chhodkar kisi aur ke baare me vichaar nahi karta. kintu jab tumhare baare me sochta hu, to tumhari yaade chaaro aur ke vatavaran me aise hi mandrane lagti hai jaise foolo par bhanware, tumhari madak gandh se vatavaran sugandhit ho jaata hai  , tumhari manmohak muskaan se vatavaran prafullit ho uthta hai.

    Palak, kya tum apne priya ko chhodkar reh paogi? Agar nahi reh paogi to fir kyo mujhse itni pratiksha kara rahi ho? kyo na in xano ko hum anand ke saath bitaye. laut aao palak, wapas laut aao .......

...pratiksharat 'nakshatra'
]

1 टिप्पणी:

  1. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (17-03-2013) के चर्चा मंच 1186 पर भी होगी. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं